Urdu

गूगल ने उर्दू के शौकीनों के लिए बहुत ही नायाब टूल उपलब्ध करा दिया है। पिछली 13 मई से गूगल अनुवादक में उर्दू जोड़ दी गई है, यानी आप अब उर्दू से, या उर्दू में, दर्जनों भाषाओं का अनुवाद कर सकते हैं। गूगल ट्रान्सलेट पर जाइए, “Translate from” में “Urdu ALPHA” चुनिए, “Translate to” में […]

Continue reading about गूगल की उर्दू – कराची मतलब भारत

[आज जुलाई का अन्तिम दिन है। यदि आज मैं यह प्रविष्टि नहीं लिखता तो इस चिट्ठे की पौने तीन वर्ष की आयु में पहला महीना ऐसा चला जाता जिस में कुछ भी न लिखा गया हो। अपने चिट्ठे को सुप्तावस्था से बाहर लाने की कोशिश है यह प्रविष्टि, जो मैं ने कुछ समय पहले आरंभ […]

Continue reading about उर्दू देवनागरी लिपियाँ – एक तुलनात्मक अध्ययन

आप साइबर कैफे में, लाइब्रेरी में, दफ्तर में या किसी ऐसे कंप्यूटर पर काम कर रहे हैं जहाँ आप को कुछ भी इन्स्टाल करने की आज़ादी नहीं है, और आप हिन्दी लिखना चाहते हैं। ऐसे में यूनिनागरी और हग जैसे ऑनलाइन टाइपराइटर बहुत काम आते हैं। मेरी साइट पर यूनिनागरी पिछले दो वर्षों से अधिक […]

Continue reading about यूनिनागरी में अब शुषा, कृतिदेव लेआउट, और उर्दू भी

मोहल्ले में आजकल रोज़ की तानेबाज़ी चल रहा है। लगता है मोहल्ले वालों को सकारात्मक कुछ नहीं दिखता। संगीत में विभिन्न धर्मों के लोग हैं, यह तो सदियों पुरानी बात है, इस के लिए सुदर्शन को ताना। उर्दू बोलने वालों को कोई दहशतगर्द भले न कहे, पर ताने दो और वाहवाही लूटो। अरे भाई, इस […]

Continue reading about कौन उर्दू बोलने वालों को दहशतगर्द कहते हैं

बाज़ीचा-ए-अत्फ़ाल है दुनिया मेरे आगे होता है शबो-रोज़ तमाशा मेरे आगे। इक खेल है औरंगे-सुलेमाँ मेरे नज़दीक इक बात है ऐजाज़े-मसीहा मेरे आगे। जुज़ नाम नहीं सूरते-आलम मुझे मंज़ूर जुज़ वहम नहीं हस्तिए-अशिया मेरे आगे। होता है निहाँ गर्द में सहरा मेरे होते घिसता है जबीं ख़ाक पे दरिया मेरे आगे। मत पूछ कि क्या […]

Continue reading about बाज़ीचा-ए-अत्फ़ाल है दुनिया मेरे आगे