बाज़ीचा-ए-अत्फ़ाल है दुनिया मेरे आगे

बाज़ीचा-ए-अत्फ़ाल है दुनिया मेरे आगे होता है शबो-रोज़ तमाशा मेरे आगे। इक खेल है औरंगे-सुलेमाँ मेरे नज़दीक इक बात है ऐजाज़े-मसीहा मेरे आगे। जुज़ नाम नहीं सूरते-आलम मुझे मंज़ूर जुज़ वहम नहीं हस्तिए-अशिया मेरे आगे। होता है निहाँ गर्द में सहरा मेरे होते घिसता है जबीं ख़ाक पे दरिया मेरे आगे। मत पूछ कि क्या […]