चुटकुला-गूँज + सुभाषित-सहस्र

विवाह के विषय में कुछ सुभाषित (पुरुषों की नज़र से) मैं ने सुना है कि प्रेम रसायनशास्त्र की तरह है। शायद यही वजह है मेरी पत्नी मुझे विषैले पदार्थ के समान समझती है।    – डेविड बिसोनेट कोई व्यक्ति यदि आप की पत्नी को चुरा लेता है, तो उस से बदला लेने का सब से बेहतर […]

चन्द्रबिन्दु (ँ) और अनुस्वार (ं) के नियम

अभी हाल में प्रतीक का पोस्ट पढ़ा सही हिन्दी (broken link) लिखने पर। बहुत ही सटीक और सामयिक लेख था, और इस विषय पर मैं भी बहुत समय से लिखना चाहता था। अब प्रतीक की बात को ही आगे बढ़ाता हूँ। हालाँकि हम सभी चिट्ठाकार हिन्दी के दीवाने हैं, हम में से अधिकांश लोगों ने […]

हार की जीत

सुदर्शन लिखित हार की जीत मेरी सर्वाधिक प्रिय कहानियों में से है। किस कारणवश आज इस कहानी की याद आ गई, यह अगली पोस्ट में बताऊँगा। अभी प्रस्तुत है यह कहानी, सधन्यवाद भारत दर्शन*, जहाँ यह कहानी शुषा मुद्रलिपि में मिली, और रजनीश मंगला जिनके चमत्कारी टूल ने इसे यूनिकोड में परिवर्तित किया। * अपडेट 27 […]

मुंशी प्रेमचन्द की कहानियाँ

कड़ी : प्रेमचन्द की कहानियाँ सी-डॅक की साइट पर अनेकों ई-पुस्तकें उपलब्ध हैं। इन में से मेरी मनपसन्द हैं मुंशी प्रेमचन्द की कहानियों वाली ई-पुस्तकें। यह ई-पुस्तकें वर्ड फाइलों के रूप में उपलब्ध हैं और हर फाइल में ३ से ६ कहानियाँ हैं। सीडॅक ने यह बहुत उत्कृष्ट काम किया है। पर इन्हें पढ़ने और खोजने […]

अगर तुम आ जाते एक बार

अगर तुम आ जाते एक बार काँटे फिर न पीड़ा देते आँसू भी मोती बन जाते तेरी बाहें जो बन जाती मेरे गले का हार अगर तुम आ जाते एक बार जीवन का सच अतिसय सुन्दर पा जाते हम दोनों मिलकर उजड़े दिलों में छा जाती मदमाती नई बहार अगर तुम आ जाते एक बार […]