हिन्दी में जीमेल – नया तो नहीं

Gmail in Hindi in 2005जीमेल ने घोषणा की है कि अब आप सीधे जीमेल में जा कर हिन्दी या अन्य भारतीय भाषाओं में ईमेल लिख सकते हैं। धन्यवाद गूगल। यह घोषणा जीमेल ब्लॉग और गूगलब्लॉग पर ताज़ी ताज़ी हुई है। इस से कई नए लोग हिन्दी और अन्य भारतीय भाषाओं में मेल लिख सकते हैं। पर मुझे गूगल के इस वक्तव्य से आपत्ति है कि

अब तक मित्रों और संबन्धियों को हिन्दी में ईमेल भेजने की कोई अच्छी विधि नहीं थी।

अरे भाई, हम जैसे हज़ारों लोग सालों से हिन्दी और अन्य भारतीय भाषाओं में मेल लिखते आ रहे हैं — वह भी जीमेल में, वह भी बिना कॉपी-पेस्ट किए। मैं ने 2004 में जीमेल का खाता खोला था और पहला या दूसरा सन्देश हिन्दी में भेजा था (नीचे का चित्र देखें)। तरीका भी कोई मुश्किल नहीं था। बस अपने विंडोज़ में हिन्दी कीबोर्ड सक्रिय करने भर की बात थी। जैसा सभी हिन्दी चिट्ठाकारों को मालूम है, और भी दर्जनों तरीके रहे हैं हिन्दी में ईमेल लिखने के। और फिर कुछ नहीं तो इस तरह के ऑनलाइन टाइपराइटर भी बहुत हैं।

Gmail in Hindi in 2005

गूगल भैया, एक बार फिर धन्यवाद। पर लंबी लंबी तो मत हाँको कि पहले ईमेल लिखने का कोई सरल तरीका नहीं था। हाँ आप लोगों ने इस काम को नए लोगों के लिए आसान कर दिया है। हम जैसे लोग तो अभी भी अपने पुराने तरीके ही इस्तेमाल करते रहेंगे। गूगल ने इसी तरह दो साल पहले घोषणा की थी कि अब आप हिन्दी में ब्लॉग लिख सकते हैं, जब कि उस से वर्षों पहले से हिन्दी में चिट्ठाकारी धड़ल्ले से चल रही थी। गूगल रे झूठ मत बोलो, खुदा के पास जाना है।

Join the Conversation

46 Comments

  1. It’s really unbelievable. This is very good for those people who wants to remain in touch with their family even without much knowledge of english. Now I can talk with my mom more easily, because she is not very good in english.

    Thank you Google.

    You are the best.

  2. sarfaraz

    It’s really unbelievable. This is very good for those people who wants to remain in touch with their family even without much knowledge of english. Now I can talk with my mom more easily, because she is not very good in english.

    Thank you Google.

  3. चलिये, गूगल बाबा ने एक छोटी सी सुविधा तो अवश्य दी है। दिक्कत यह है कि लोगों को हिन्दी उपयोग के ‘सर्वश्रेष्ठ’ रीति पता नहीं है; कुछ लोग समझ भी नहीं पाते; कुछ लोग समझ कर करने की कोशिश में असफल हो जाते हैं।

    गूगल की यह सुविधा इस मामले में विशेष है कि इसका प्रयोग करने में न्यूनतम् कठिनाई आयेगी।

  4. सही कह रहे हैं आप, आजकल “हिन्दी” लिखने के बहुत सारे औजार उपलब्ध हैं, मैं “हिन्दी राईटर” उपयोग करता हूँ यह एकदम मस्त है, ऑनलाइन हो या ऑफ़लाइन, कभी तकलीफ़ नही होती, मैं अपनी सभी लम्बी-लम्बी पोस्ट वर्ड फ़ाइल में इसी के सहारे लिखता हूँ आराम से फ़िर सीधे ब्लॉगर में पेस्ट करता हूँ… गूगल बाबा वाकई ज़रा ज्यादा बढ़ा-चढ़ाकर पेश कर रहे हैं… hindi writer तो याहू की चैटिंग में भी काम करता है…

  5. जिन को अग्रेंजी नहीं आती अनके लिए यह बहुत ही अच्‍छी सुवधिा जीमेल में यूजरों की दी हैंा

  6. shriman
    Bada accha laga ki koi Google ki Pol khol raha hai…
    Internet ki democracy ko monopoly se savdhan rahana chahiye…

    Aur jankari ke liye,gmail ke bhi pehale ye suvidha rediff.com jaise bharat centric sites pe upaladhad thi…

    Dhanyavad!

  7. Hindi hona jaroori tha kyo hum log indian indian jyda tar hindi bolte hai bahutjarure tah BAHUT ACHHA LAGA

  8. really great google.. and someone told here that already rediff.com given this facility but if you compare with google.. really its too smooth and better….. g88.. waiting for next …..

  9. गूगल ने हिन्दी में लिखना बहुत ही आसान कर दिया है। धन्यवाद गूगल। देखते हैं आगे क्या करते हैं।

  10. This is good but we should remember one thing, MNCs is coming in India because people are having language adaptation ability hence we should try to Adapt Hindi as well as Engalish.

    Any how google is one of the best messaging solution provider!!!

  11. it is really great effort the official hindi language department of govt of India should learn. But will somebody tell me which is the font used so when I copy and paste in Ms word which font will keep its originality

  12. This is not merely a means to send email in Hindi, but to type Hindi and other Indian languages without having keyboard support in the browser or operating system, and without knowing how to use the hindi layouts.

    Transliteration is an excellent tool that opens doors to thousands of people who know the language and the qwerty layout, but find it too difficult to learn the local language layout. When I type ‘google’ in hindi transliteration mode, it automatically becomes ‘गूगल’. This is truly innovative and while it’s great that you have been communicating in hindi over gmail for many years, it is not true that Google has failed to innovate or that they are claiming false achievements.

  13. ख़ुशी हुई जानकार कि हिंदी प्रेम कम नहीं हुआ है बल्की बढ़ता ही जा रहा है | बढा – चढा कर ही सही, गूगल का इस दिशा में एक प्रशंशनीय कदम है |

    ~ दुष्यन्त

  14. It is really great effort the official hindi language department of govt. of INDIA should learn. But will somebody tell me which is the font used so when I copy and paste in Ms word which font will keep its originality.
    JAI BHART JAI BHART JAI BHART JAI BHART

  15. THIS IS VERY GOOD
    BHUT AACHHA LAGA but YE SUVIDHA rediff. com JAISE BHARAT CENTRIC SITES PER PEHLE SE UPALADHAD THI…..
    JAI BHART JAI HINDUSTAN..

  16. सही कह रहे हैं आप, आजकल “हिन्दी” लिखने के बहुत सारे औजार उपलब्ध हैं, मैं “हिन्दी राईटर” उपयोग करता हूँ यह एकदम मस्त है, ऑनलाइन हो या ऑफ़लाइन, कभी तकलीफ़ नही होती, मैं अपनी सभी लम्बी-लम्बी पोस्ट वर्ड फ़ाइल में इसी के सहारे लिखता हूँ आराम से फ़िर सीधे ब्लॉगर में पेस्ट करता हूँ… गूगल बाबा वाकई ज़रा ज्यादा बढ़ा-चढ़ाकर पेश कर रहे हैं… hindi writer तो याहू की चैटिंग में भी काम करता है…

Leave a comment

Leave a Reply to लाजपत Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *