चक्कर चार सौ बीस का

आज बीबीसी की वेबसाइट पर समाचार देखा कि स्पेन की पुलिस ने धोखेबाज़ों के एक गिरोह को 420 मिलियन पाउंड की धोखाधड़ी के लिए गिरफ्तार किया है। यूँ तो इस धनराशि को डॉलर, यूरो आदि में परिवर्तित किया जाए तो कुछ और ही अंक सामने आएँगे, पर फिर भी 420 अंक के संयोग को अनदेखा […]

इतनी सर्दी है किसी का लिहाफ लइ ले

बाईं ओर मैं ने अपने गूगल होमपेज से मौसम का जो हाल चिपका रखा है, वह चित्र अपनी कहानी कह रहा है। मैं जिस शहर में रहता हूँ, उस का नाम है वेस्टमिन्सटर। यह बाल्टिमोर से केवल 50 किमी की दूरी पर है और वाशिंगटन डीसी से कोई 80 किमी। पर पर फिर भी इन […]

स्लम-डॉग मिलियनेयर – एक समीक्षा

मुंबई के स्लम-जीवन पर केन्द्रित स्लमडॉग मिलियनेयर देखकर हॉल से निकलने के बाद अनुभूतियाँ मिश्रित थीं। फिल्म में मुंबई के झोपटपट्टी जीवन की जो छवि दिखाई गई है, उसे देख कर काफी बेचैनी लगी। अमरीकी सिनेदर्शकों से भरे हॉल में ऐसा लगा जैसे हमें पश्चिम वालों के सामने नंगा किया जा रहा है। फिल्म के […]

नव वर्ष की शुभकामनाएँ

इस सुप्त चिट्ठे पर भूले भटके आए पाठकों को नए वर्ष की शुभकामनाएँ। पिछला वर्ष विश्व-अर्थव्यवस्था की भांति इस चिट्ठे के लिए भी मंदी का ही रहा। बारह महीने में कुल जमा छः प्रविष्टियाँ, तीन मई में तीन जुलाई में। इस उम्मीद के साथ कि दोनों के लिए नया साल कुछ बढ़ोतरी लाए, एक बार […]