मैं एकल विद्यालय संगठन के विषय में जो कहने जा रहा हूँ, उस का आजकल चल रही आरक्षण संबन्धी बहस से भी गहरा सरोकार है। हमारे हिन्दी ब्लॉगमंडल में जितने लोगों ने भी आरक्षण के विषय पर अपना मत प्रकट किया, विशेषकर आरक्षण के विरोध में लिखने वालों ने, लगभग सब ने यह कहा कि समस्या का समाधान है पिछड़ी जातियों और जनजातियों को शिक्षित करना। उन्हें शिक्षित होने के सही अवसर प्रदान करना ताकि वे बाकी सब के साथ कदम मिला कर चल सकें। अब सरकार से इस सब की उम्मीद रखना कितना उचित है, यह हम सब को मालूम है। राजनीतिज्ञों को तो अपने वोटबैंकों को सुदृढ़ करने से ही फुर्सत नहीं है, देश चाहे भाड़ में जाए। इसलिए इस के लिए पहल नागरिकों को ही करनी होगी। इस में आम नागरिक, अप्रवासी भारतीय एवं गैर-सरकारी संगठन बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

हाल में मुझे मालूम हुआ एक ऐसे संगठन “एकल विद्यालय” के विषय में, और वह भी एक संगीतमयी सन्ध्या के साथ। संगीत के विषय में अभी बताता हूँ, पहले इस संगठन के बारे में। एकल विद्यालय ने बीड़ा उठाया है 2011 तक भारत की ग्रामीण व जनजातीय जनसंख्या से निरक्षरता-उन्मूलन का। यह किस तरह से किया जाएगा, यह यहाँ पढ़ें — इस चिट्ठे पर अधिक लिखने से लाभ नहीं। पर इस तरह का प्रकल्प तभी सफल होगा, जब इस में हम आप जैसे लोग जुड़ें – तन से, मन से और धन से।

यहाँ अमरीका में  आजकल एकल विद्यालय संगठन का एक फंड-रेज़िंग कार्यक्रम चल रहा है। उसी उपलक्ष में हाल में मेरी भेंट एकल विद्यालय की वाशिंगटन डीसी शाखा की अध्यक्षा सुश्री शशि श्रीवास्तव से हुई। उन्होंने मुझे बुलाया एकल सुर सन्ध्या में, जो पिछले सप्ताहान्त वाशिंगटन डीसी के पास आयोजित हुई। गायक कुमार सुनील मुंगी (जो हमारे कई चिट्ठाकार बन्धुओं की तरह मालवा वासी हैं) और उन के साथ के तबला-वादक हेमेन्द्र महावर और नवयुवक सितार-वादक इन्द्रजीत राय चौधरी ने ऐसा समाँ बान्धा कि घंटों तक क्षेत्र के ग़ज़ल-गीत-भजन प्रेमी झूमते रहे। साथ में एकल विद्यालय के विषय में संक्षिप्त जानकारी दी गई और फलस्वरूप कई लोगों ने कई विद्यालयों को चलाने के लिए धन दिया। एकल विद्यालय संगठन का दावा है कि एक व्यक्ति यदि एक दिन एक डॉलर दे तो उस से एक विद्यालय चलाया जा सकता है।

मुझे यह प्रविष्टि लिखने में काफी देर हो गई, और इस बीच सुनील जी की टीम कई और अमरीकी शहर घूम चुकी है। एकल सुर सन्ध्या का पूरा कार्यक्रम यहाँ पर है। अभी जून में जहाँ कार्यक्रम होने हैं, वे हैं कैलिफोर्निया में बे-एरिया (2-जून) और सैक्रेमैंटो (3-जून), ओहायो में कोलम्बिया (9-जून) और सिनसिनाटी (10-जून), इंडियाना में इंडियानापोलिस (11-जून), इलिनोइ में शिकागो (17-जून), उत्तरी कैरोलाइना में राले (23-जून) और शार्लट (24-जून)। जुलाई में दक्षिण कैलिफोर्निया, ह्यूस्टन और डलस में, अगस्त में न्यू जर्सी और रोड आइलैंड में, और सितंबर में पिट्सबर्ग, हैरिसबर्ग और फिलाडेल्फिया में कार्यक्रम होंगे। इन सब क्षेत्रों के पाठक व चिट्ठाकार ध्यान दें, भाग लें और इस कार्यक्रम की सूचना लोगों तक पहुँचाएँ।

Ekal Sur Sandhya at Lanham, MD

यह चित्र वाशिंगटन डीसी के पास लैनहैम, मेरीलैंड में हुई संगीत सन्ध्या का है। श्रोताओं में बैठ कर स्टेज के फोटो मुझ से सही नहीं खींचे जाते। इस कारण चित्र बढ़िया नहीं आया। इस बारे में अनुभवी लोगों की सलाह दरकार है।

3 Comments on एकल विद्यालय एवं एकल सुर सन्ध्या

  1. मनीष says:

    बेहद सराहनीय प्रयास है ।

  2. Atul says:

    भाई साहब इसमें आप्टिकल जूम से मदद मिल सकती है क्या?

  3. anunad says:

    ऐसे प्रयासों की सराहना की जानी चाहिये | ऐसे कार्यों को नैतिक और आथिक सहायता करना चाहिये | लोगों को ऐसे कार्यों के बारे में बताने से जागरूकता फैलती है | निश्चय ही विद्यादान सबसे श्रेष्ठ दान है |

Leave a Reply