हम में से शायद सभी ने बचपन में सुदर्शन की कहानी हार की जीत पढ़ी होगी। यह कहानी उन चन्द कहानियों में से है, जिन्होंने मेरे मन पर, मेरी सोच पर गहरा प्रभाव छोड़ा। (जिन्होंने यह कहानी न पढ़ी हो, उन के लिए एक अलग प्रविष्टि के रूप में मैं ने वह कहानी उपलब्ध की है।) […]

Continue reading about हिन्दी ब्लॉगमंडल और बाबा भारती

admin on May 29, 2006

सुदर्शन लिखित हार की जीत मेरी सर्वाधिक प्रिय कहानियों में से है। किस कारणवश आज इस कहानी की याद आ गई, यह अगली पोस्ट में बताऊँगा। अभी प्रस्तुत है यह कहानी, सधन्यवाद भारत दर्शन*, जहाँ यह कहानी शुषा मुद्रलिपि में मिली, और रजनीश मंगला जिनके चमत्कारी टूल ने इसे यूनिकोड में परिवर्तित किया। * अपडेट 27 […]

Continue reading about हार की जीत

मैं एकल विद्यालय संगठन के विषय में जो कहने जा रहा हूँ, उस का आजकल चल रही आरक्षण संबन्धी बहस से भी गहरा सरोकार है। हमारे हिन्दी ब्लॉगमंडल में जितने लोगों ने भी आरक्षण के विषय पर अपना मत प्रकट किया, विशेषकर आरक्षण के विरोध में लिखने वालों ने, लगभग सब ने यह कहा कि समस्या […]

Continue reading about एकल विद्यालय एवं एकल सुर सन्ध्या

आजकल पैट्रोल के दामों के विषय में एक चेन मेल शुरू हुई है, जिस में कहा गया है कि 22 मई (या 22 सितम्बर?) को पैट्रोल का प्रयोग न करें, ताकि पैट्रोल कंपनियों को होश आ जाए। अपने अंग्रेज़ी चिट्ठे में मैं ने इस पर किए हुए शोध के परिणाम दिए हैं। आप भी पढ़ें […]

Continue reading about पैट्रोल के दामों के विषय में चेन मेल

बचपन से टाइम्ज़ ऑफ इंडिया मेरा प्रिय अखबार रहा है। कम से कम दो दशक तक हर सुबह एक कप चाय और टाइम्ज़ ऑफ इंडिया  से शुरू होती थी। यहाँ, देश से दूर इस अखबार की वेबसाइट ही इसे पढ़ने का एकमात्र साधन है। पर हद से ज़्यादा पॉप-अप विज्ञापनों के चलते इसे पढ़ना सज़ा हो जाता […]

Continue reading about टाइम्ज़ ऑफ इंडिया के पॉप-अप

admin on May 11, 2006

पिछले सप्ताह फ़ॉरवर्ड किए हुए मेलों में एक मेल आया जिस में कई सारे कार्टून थे। मुझे अच्छे लगे, विशेषकर क्योंकि ऑरिजिनल भारतीय थीम के कार्टून थे। सोचा आगे फ़ॉरवर्ड करने के बदले अपने ब्लॉग पर डाल देता हूँ — कई दिनों का सन्नाटा छंट जाएगा। पर आदत के अनुसार पहले छानबीन की। कार्टूनों के […]

Continue reading about फडणीस के कार्टून