जब हिन्दी इंटरनेट की दुनिया का कोई नया बाशिन्दा यह सवाल पूछता है कि हिन्दी कैसे लिखें, तो सब का अलग अलग जवाब होता है – कोई कहता है, बरह प्रयोग करो, कोई यूनिनागरी, कोई हग, कोई छहरी, तो कोई IME। मेरा यह सोचना रहा है कि इंटरनेट पर देवनागरी के टाइपराइटर ज़्यादा होने की बजाय कम होने चाहिएँ, बढ़िया होने चाहिएँ, और ज़्यादा लोग एक ही टाइपराइटर प्रयोग करने चाहिएँ। इस से मानकीकरण होगा,  लोगों के पूछने पर एक सा जवाब दिया जाएगा, और उसी एक टाइपराइटर का ज़्यादा विकास होगा। अब तक बहुत अलग अलग तरीके आज़माने के बाद मैं इस नतीजे पर पहुँचा हूँ कि ऍडिटर बेहतरीन है IME (विंडोज़ पर) और कीबोर्ड बेहतरीन है इन्स्क्रिप्ट।

पर फिर भी अपने ही उसूल को ताक पर रख कर मैं अपनी साइट पर दो और ऍडिटर रिलीज़ करने का ऐलान कर रहा हूँ।

पहला तो खैर हिन्दी का है ही नहीं, इसलिए कोई बात नहीं। यह है गुरमुखी का ऍडिटर – यूनिमुखी। नईं जी, मैंनू पंजाबी नईं आन्दी.. मतलब इन्नी ही आन्दी है। पर हाँ, श्रीनगर से दिल्ली के बीच पंजाब से गुज़रते हुए, गुरमुखी की कुछ कुछ पहचान हो गई है — और उतनी ही पहचान बाङ्ला और गुजराती लिपियों की भी है — वैसे भी देवनागरी से तो मिलती जुलती हैं ही यह लिपियाँ। रजनीश ने चिट्ठाकार समूह पर गुरमुखी ऍडिटर की बात छेड़ी तो मैं ने कहा मैं कोशिश करता हूँ। बस ऍलनवुड की साइट से गुरमुखी और देवनागरी के कोड ले कर एक तुलनात्मक सारणी बना ली और उस से यूनिनागरी से यूनिमुखी बना लिया।

दूसरा  ऍडिटर तो, क्षमा कीजिए, देवनागरी का ही है। और इस का कारण है मेरा इन्स्क्रिप्ट के प्रति जागा नया प्रेम — जिस के लिए ज़िम्मेवार हैं रवि रतलामी। तो पेश है यूनिस्क्रिप्ट। मेरे विचार से इस के दो लाभ हैं — एक तो जो लोग इन्स्क्रिप्ट के आदी हैं, वे साइबरकैफे आदि में इसे ऑनलाइन प्रयोग कर सकते हैं। दूसरे, यदि कोई इन्स्क्रिप्ट पर टच टाइपिंग सीखना चाहते हैं तो मैं ने इस में कीबोर्ड पर विभिन्न रंगों के द्वारा यह दिखाया है कि कौन सी उंगली कहाँ रखनी है, और उस से कौन से अक्षर टाइप होंगे।

आप लोगों की प्रतिक्रिया और सुझावों का इन्तज़ार रहेगा।

12 Comments on पेश हैं दो और टाइपराइटर

  1. टच टाइपिंग सीखने वालों के लिए बेहतरीन टूल है आपका यूनिस्क्रिप्ट. धन्यवाद!

  2. रवि says:

    वाह! इस काम को तो आपको साल भर पहले करना था! ख़ैर, देर आयद अत्यंत दुरूस्त आयद!

    एक और इल्तिज़ा है आपसे.

    अब फटाफट शुषा और कृतिदेव के कुंजी पट भी बना दीजिए.

    अभी भी आधी जनता इन्हीं का इस्तेमाल करती है, और इस तरह से उन्हें यूनिकोड में शिफ़्ट होने में अत्यंत आसानी होगी.

    अनंत धन्यवाद सहित,

  3. SHUAIB says:

    स्बसे पहले टच टाइपिंग सीखने का अनलईन पैड बनाने के लिये आप को मुबारकबाद और दूसरा ये के मैं ख़ुद कन्फ़यूज़ रहता हूं के मेरे लिये हिन्दी का कोन्सा एडीटर ठीक रहे गा? इन्टरनेट और आप की वेब साईट से बहुत सारे ऐडिटर डोन्लोड किये पर हर ऐडीटर में टैपिंग का ऐक अलग काईदा होता है। आप ने ठीक ही कहा के अच्छा होता सिर्फ दो चार (बहतर) ऐडीटर होते, तो मुझ जैसों को हिन्दी सीखने में ज़ियादा परेशानी नहीं होती। फिलहाल मैं UniNagari यूज़ कर रहा हूं ये कुछ बहतर लगता है।

  4. anunad says:

    फिर एक उत्कृष्ट कार्य हुआ | बहुत सारे लोगों को सुविधा होगी; इन्स्क्रिप्ट को बढावा मिलेगा |

  5. रवि, मैंने शुषा तो प्रयोग किया है, पर कृतिदेव नहीं — इसे देखना पड़ेगा। शुषा में एक दिक्कत यह है कि इस का लॉजिक बड़ा अजीब है – यानी ा (a) और े (o) की मात्रा को मिला कर ो (ao) की मात्रा, कुछ में डंडी लगाने के लिए भी a लगाना पड़ता है, जैसे श (Sa), स (sa), और कुछ में नहीं, जैसे क (k)। ि की मात्रा पहले लगानी पड़ती है, और आधा र बाद में। ऍडिटर को इतना टेढ़ा तर्क समझाने के लिए एक प्रोफेशनल की ज़रूरत पड़ेगी, मुझ जैसे अमैच्युअर से काम नहीं चलेगा — स्वामी जी, सुन रहे हैं न?

  6. eswami says:

    हां भाई साहब सुन रहा हूं. आप अगर प्रोफ़ेशनल नही है तो अमेच्योर भी कतई नही हैं 🙂 इस काम के लिए हिदिनी टूल के इन्जन को पुख्ता करना पडेगा. इसका नंबर लगाता हूं.

  7. उनमुकत says:

    यदि आप लिन्कस में टाईप कर रहें हैं तथा अंग्रेजी टाईप राईटर के अभ्यस्त हैं तो शब्दल्िपि भी अच्छी है|

  8. Debashish says:

    Badhiya hai. Raman inhi mein se kissi ko WordPress jaise blogware ka plugin bana kar pesh karne ki bhi sochein. Aapne “Takhti” ka zikra nahi kiya, ukse bhi mere jaise kafi mureed honge 😉

  9. रवि says:

    कृतिदेव का काम आसान होना चाहिए. आप कहें तो उसका फ़ॉन्ट फ़ाइल आपको भेजूं या उसके कुंजी पट का स्क्रीन शॉट?

    शुषा का लॉज़िक थोड़ा टेढ़ा ही है इसीलिए अभी भी पद्मा प्लगइन में दिक्कतें आ रही हैं…

  10. रवि says:

    यूनिनागरी टैब के अंदर / या बाजू में इन दो कुंजी पट के टैब भी डाल दें ताकि उपयोक्ताओं को वह कड़ी सामने दिखाई देती रहे तो और अच्छा.

  11. Dr.Kanti Prakash Tyagi says:

    What is jaisthal?

    Pl write how to type using UNISCRIPT and UNINAGARI
    Key Board is there,butby clicking on the hindi letters,it doen not type.
    Please write in details.
    Thanking you very much.
    K.P.Tyagi

  12. […] जो कई लोगों के काम आ रहा है। रवि भाई का इसरार था कि इस में उन लोगों के लिए भी कीबोर्ड […]

Leave a Reply