कुछ ही समय पहले हिन्दी चिट्ठा जगत का यह हाल था गिने चुने चिट्ठे थे और हर चिट्ठा पढ़ा जाता था, और कई बार तो इन्तज़ार रहता था कि कोई कुछ लिखे तो हम पढ़ें। सौ का आंकड़ा पार करने के बाद चिट्ठों की संख्या और बढ़ती जा रही है और साथ ही बढ़ रही है गुणवत्ता और विविधता। इस के साथ ही यह तय करना मुश्किल हो रहा है कि कौन सा चिट्ठा पढ़ें और कौन सा नहीं। किस पर टिप्पणी करें और किस पर नहीं। पुराने पसन्दीदा चिट्ठे तो अपनी जगह हैं ही, साथ ही कई नए चिट्ठे जुड़ रहे हैं, जिन को “मिस” करना मुश्किल है। हाल ही में शुरू हुए चिट्ठों में पसन्द आया लाल्टू का आइए हाथ उठाएं हम भी। इस चिट्ठे की एक ख़ासियत तो यह है कि यह उन गिने चुने चिट्ठों में से है जो सही हिन्दी का इस्तेमाल करते हैं, यानी जिन में हिज्जों की ग़लतियाँ नहीं होतीं, “की” और “कि” में अन्तर किया जाता है, “ड़” और “ङ” में अन्तर किया जाता है, आदि।

जितना लाल्टू जी की प्रविष्टियाँ सोचने के लिए मजबूर करती हैं, उतना ही उन का चुना हुआ उपनाम लाल्टू, और चिट्ठे का नाम “आइए हाथ उठाएँ (?) हम भी”। हर विषय पर एक प्रविष्टि लिखी जा सकती है। चाहे उन की साझी लड़ाई हो, या गालियों से नाराज़गी

इस बार साझी लड़ाई पर थोड़ा सा। लाल्टू जी कहते हैं

… एक चिट्ठा ऐसा था जिसमें कल दिल्ली में हुए विस्फोटों की प्रतिक्रिया में पाकिस्तान पर आक्षेप लगाए गए थे। आतंकवाद के प्रसंग में इज़राइल के गाज़ा छोड़ने के बाद भी हो रहे आत्म-घाती हमलों का ज़िक्र था। इस तरह प्रकारांतर में मुसलमानों पर ही आक्षेप था। यह सचमुच दुर्भाग्यपूर्ण है कि लोग जल्दबाजी में इस तरह के निर्णयों पर पहुँच जाते हैं जो न केवल निराधार हैं, बल्कि कुल मिलाकर किसी का भला नहीं करते।

आतंकवाद किसी एक कौम की बपौती नहीं है। पाकिस्तान के लोग भी आतंकवाद से उतना ही पीड़ित हैं जितना हिंदुस्तान या कहीं और के लोग हैं।

मैं उन से काफी हद तक सहमत हूँ। भारत या पाकिस्तान का आम नागरिक, चाहे वह किसी भी धर्म का हो, आतंकवाद को नहीं चाहता, और उस से परेशान है। मैं यह भी मानता हूँ कि दुनिया की अक्सर आगें अमरीका, ब्रिटेन आदि पश्चिमी देशों की लगाई हुई हैं, पर पाकिस्तान को या पूरे विश्व में पनप रहे इस्लामी आतंकवाद को क्लीन चिट दे देना भी कोई अक्लमन्दी की बात नहीं है। क्या यह महज़ इत्तफ़ाक़ है कि स्पेन और लन्दन की ट्रेनों में, बेसलान के बच्चों के स्कूल में, न्यूयार्क के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर में, बाली के नाइट क्लब में, फ़्राँस की सड़कों पर, जहाँ कोई आतंकवाद की घटना होती है, जहाँ बेकसूर लोग मारे जाते हैं, वहाँ इस्लामी आतंकवाद सक्रिय होता है, और इन का पाकिस्तान के प्रशिक्षण शिविरों से भी कोई न कोई नाता ज़रूर होता है। इसलिए दिल्ली के धमाकों के सन्दर्भ में पाकिस्तान की बात लाल्टू जी को साम्प्रदायिक कैसे लगी यह समझ में नहीं आया। आम लोगों के तो सब साथ हैं, हम सब के निजी सम्बन्ध आम मुसलमानों से हैं, पर धार्मिक आतंकवाद भी सब से ज़्यादा इस्लाम में हो रहा है, इस बात को कैसे नकारा जा सकता है, जहाँ लोग बेकसूरों का कत्ल सिर उठा कर, और यह सोच कर करते हैं कि हम जन्नत में जाएँगे।

कश्मीर के पृथकतावाद के बारे में लाल्टू जी का कहना है

पता नहीं कितने समय तक काश्मीर के लोगों को यह यातना सहनी होगी। भारत में उनके हकों की लड़ाई लड़ने को देशद्रोह माना जाता है। उनके पक्ष में बोलने वाले लोग कोई नहीं। थोड़े बहुत जो हैं भी, उन्हें पापुलर मीडिया में जगह नहीं मिलती। एकबार किसी सभा में मैंने इसे भारतीय लोकतंत्र की कमज़ोरी कहा तो एक वक्ता ने प्रतिवाद करते हुए कहा कि अखबारों में हर रोज़ पृथकतावादियों के बयान छपते हैं, जबकि मेरा आशय पृथकतावादियों से नहीं, बल्कि हमारे जैसे साधारण नागरिकों से था, जो काश्मीर के प्रति भारत या पाकिस्तान की नीतियों से सहमत नहीं। हाल में एक राष्ट्रीय अखबार में मेरे लिखे एक लेख में काश्मीर प्रसंग में लिखे शब्द ‘आज़ादी’ को ‘कथित आज़ादी’ कर दिया गया, बिना मुझसे पूछे ही।

स्वयं एक कश्मीरी होने के नाते मुझे लाल्टू जी की विचारधारा पर सोचना पड़ा। कश्मीरियों के किन हकों की लड़ाई की बात कर रहे हैं वे? ठीक है आप का “आशय पृथकतावादियों से नहीं, बल्कि हमारे जैसे साधारण नागरिकों से था”। यदि आज़ादी की मांग पृथकतावाद नहीं तो फिर क्या है? और यदि यह मांग अलग रखी जाए, तो कश्मीरियों को कौन सी ऐसी तकलीफ है जो शेष भारतवासियों को नहीं। क्या बिहार में बेरोज़गारी नहीं? क्या वहाँ पुलिस की ज़्यादतियाँ नहीं? क्या उत्तर प्रदेश में बिजली की कमी नहीं? क्या हिमाचल और उत्तरांचल की मुश्किलें अलग हैं? वे तो आज़ादी का नारा नहीं लगाते। फिर ऐसा क्या है जो कश्मीर में अलग है? इस्लाम? यदि हाँ, तो फिर किस सेक्युलरिज़्म की बात कर रहे हैं आप? हम लोगों (कश्मीरी हिन्दुओं) को आज़ादी का नारा लगाने की ज़रूरत क्यों नहीं पड़ी, लद्दाखियों और जम्मू-वासियों को जो उसी राज्य के बाशिन्दे हैं, आज़ादी की ज़रूरत क्यों नहीं पड़ी, जब कि १९४७ से ही जम्मू-कश्मीर राज्य में कश्मीरी मुसलमानों की ही हुकूमत रही है, और अन्य क्षेत्रों (जम्मू, लद्दाख) और अल्पसंख्यकों (हिन्दू, बौध, सिख) की अवहेलना हुई है। यहाँ तक कि हम लोगों को घरबार छोड़ कर १५ साल पहले बिखर जाना पड़ा। क्या लाल्टू जी के मीडिया वाले जिन्हें “पॉपूलर मीडिया में जगह नहीं मिलती”, हमारी बात भी करते हैं?

हम तो अपनी जन्मभूमि कश्मीर खो ही चुके हैं, अब चाहे उसे आज़ादी दे दें या पाकिस्तान को दे दें हमारी बला से। पर क्या इस्लाम के कारण कश्मीर को अलग करना भारत के सेक्यूलरिज़्म को नकारना नहीं होगा? देश के बाकी हिस्सों में इस का क्या असर होगा? और क्या इस से जिहादी चुप हो जाएँगे? उन का ध्येय तो तब पूरा होगा, जब पूरे भारत में ही नहीं, पूरे विश्व में “रौशनी” नहीं फैलती, भले ही वह तलवारों से और बमों से ही क्यों न फैले।

9 Comments on आइए हाथ उठाएं हम भी

  1. लाल्टू जी हिंदी के चर्चित कथाकार भी हैं।इनकी कहानियां हिंदी की पत्रिकाओं में छपती रहती हैं।

  2. जीतू says:

    मै रमण भाई की पीड़ा को समझता हूँ, लगभग कुछ ऐसा ही दर्द हमारे पूर्वजों ने भी बँटवारे के वक्त सहा होगा। लेकिन अपने ही देश मे शरणार्थी होना, ये तो कंही का इन्साफ़ नही है। मै इस बात से सहमत हूँ कि आप नागरिक चाहे वो हिन्दुस्तान का हो या पाकिस्तान का, कंही भी खून खराबा नही चाहता, लेकिन क्या हुक्मरान ऐसा चाहते है? शायद नही। यही समस्या की जड़ है। रही बात पाकिस्तान की, वहाँ फ़ौज का फ़ायदा इसी मे है कि हिन्दुस्तान से छत्तीस का आंकड़ा रहे, ताकि आम पाकिस्तानी बाकी चीजों की तरफ़ ध्यान ना दे सके।

    कशमीरियों के सिलसिले मे, मेरा अपना विचार है कि वे भी अब आतंकवाद से ऊब चुके है, पंजाब मे आंतकवाद से जैसे ही लोग खिलाफ़ हुए, वहाँ पर आतंकवाद थम गया। शायद वादी ए कशमीर मे ये आंतक का आखिरी दौर हो…इन्शा अल्लाह!

    हम चाहेंगे घाटी मे अमन चैन लौटे और अपने कश्मीरी हिन्दू अपने अपने घरों को लौटे यही हर भारतवासी की कामना है। लेकिन क्या हर पाकिस्तानी ऐसा सोचता है? ये देखना बाकी है।

  3. सुनील says:

    अच्छे लिखने वाले की प्रशंसा करना आप की अपनी सुरुचि का भी सबूत है. मैं लाल्टू जी के अच्छे लेखन पर आप से सहमत हूँ पर आप ने उनकी बात को ले कर उस बारे में अपनी राय भी बहुत अच्छे तरीके से दी है. सुनील

  4. अनुनाद says:

    मुझे भी यही लगता है कि जो लोग बिना बिचारे यह कह देते हैं कि सभी धर्म ( मजहब समझिये ) अच्छाई सिखाते हैं , वे मजहबी ग्रन्थों को पुन: और अच्छी तरह ( क्रिटिकली ) पढें ; विशेषकर उन ग्रन्थों को, जिन्हे उनके अनुयायी आज भी अक्षरश: पालन करने और कराने की भरपूर कोशिश करते हैं |

  5. पंकज says:

    मेरे एक रुमी हुआ करते थे श्रीमान हंजूरा। उनका बचपन बीता श्री नगर में पर जवानी आतंकवाद के चलते अहमदाबाद में। वे इस से इतने त्रस्त थे कि काश्मीर के बारे में कोई भी बात नहीं करना थे।

  6. लाल्टू जी,
    रमण जी द्वारा उठाये हुये सवालों का आप क्या उत्तर देंगे,यह जानने की उत्सुकता है। मीडिया वाले कभी अपने घर से बेघर किये गये कश्मीरियों की बात क्यों नहीं करते? क्या हिन्दुओं की समस्यायें समस्यायें नहीं है? मैं भी कुछ ऐसे कश्मीरियों को जानता हूँ जिन्हें अपना घर छोड़ना पड़ा है और वे कभी लौट कर जाने की उम्मीद भी नहीं करते।

  7. चन्दन कुमार says:

    हिन्दी के प्रति लोगों का रूझान बढ़ता देख अच्छा लग रहा है, प्रयास और भी होने चाहिए और अच्छे लेख आने चाहिए । लोगों को आम दिनों में हिन्दी भाषा का प्रयोग ज्यादा से ज्यादा करना चाहिए ।

  8. रमण जी आज गूगल ब्लॉग सर्च से लाल्टू जी के चिट्ठे पर पहुँचा वहाँ से आपकी इस पोस्ट पर, आपके विचार पढ़े। मैं भी आज अपनी मातृभूमि से दूर हूँ और आप भी। लेकिन मैं अपनी इच्छा से हूँ जबकि आप को मजबूरी में जाना पड़ा। आपका दर्द तो वही समझ सकता है जिसने ये सब खुद भुगता हो मैं तो केवल अनुमान लगा सकता हूँ।

    जहाँ तक आतंकवाद और कश्मीरियों के हितों की बात है तो कश्मीर जैसा विशेष दर्जा और किस राज्य को है। आतंकवादियों को तो अपने कुत्सित इरादों को पूरा करने का बहाना चाहिए जो आज उनके पास कश्मीरियों के हक के रुप में है। कल कश्मीर हड़पने वे दिल्ली की ओर बढ़ेंगे।

    इस सुन्दर लेख के लिए बधाई।

Leave a Reply