दरबदर हैं हम भी

भई जब सभी अपनी घुमक्कड़ी की दास्तान सुना रहे हैं तो हम ने सोचा हम भी देखें हमारा नक्शा कैसा दिखता है। इसलिए तीनों नक्शे बना कर यहाँ ड़ाल दिए हैं। देशों और राज्यों की बदलती सीमाओं के चलते कुछ प्रश्न उभरे

  • यदि आप झारखंड, उत्तरांचल या छत्तीसगढ़ के शहरों में तब गए हैं जब ये राज्य नहीं बने थे, तो क्या आप कह सकते हैं कि आप उन राज्यों में गए हैं? मैं ने तो गिन लिए।
  • यदि आप १९४६ में लाहौर गए हैं तो क्या आप कह सकते हैं कि आप पाकिस्तान गए हैं? यह प्रश्न मुझ पर लागू नहीं होता।
  • यदि आप १९८९ में पूर्वी जर्मनी गए हैं तो क्या आप उस देश को गिनती में जोड़ सकते हैं — अब तो वह देश रहा नहीं? मैं जब १९९४ में बर्लिन गया तो दीवार के बस टुकड़े बचे थे।
  • मैं इंगलैंड, स्विज़रलैंड, फ्राँस और हॉलैंड में सिर्फ जहाज़ बदलने के लिए रुका हूँ। उन को गिनना तो वाजिब नहीं होगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *