वर्डप्रेस का नया संस्करण १.५.१.३ उपलब्ध हो गया है। सामान्यतः मैं नए संस्करण को स्थापित करने में जल्दी नहीं करता जब तक उस में उपस्थित किसी विशेष गुण की सूचना न हो। पर इस बार वर्डप्रेस वाले कह रहे हैं कि उन के पुराने संस्करण में कोई सुरक्षा सम्बन्धी नुक्स है जिस के कारण प्रयोक्ताओं […]

Continue reading about वर्डप्रेस का नया संस्करण

यदि आप अमरीका में रहते हैं और ज़बासर्च जैसी साइट पर कभी गए हैं तो आप अपना नाम बदल कर ईस्वामी रख लेंगे, या फिर कालीचरण गायतोन्दे। समस्या यह है कि आप की लगभग हर सूचना पब्लिक प्रापर्टी है, और कभी कभी डर लगता है यह देख कर। कई साल पहले मेरी भारत से बाहर […]

Continue reading about ज़बरदस्त सर्च ज़बासर्च

कहानी शुरू हुई कई महीने पहले जब हमारे अतुल भाई अपने चिट्ठों की प्रसिद्धि के लिए मिठाई खिला रहे थे। “लाइफ इन..” के चर्चे अभिव्यक्‍ति पर थे। इंडीब्लॉग पुरस्कार रास्ते में थे, मालूम ही था अपनी ही झोली में गिरने हैं। खैर मिठाई का डिब्बा दिखा कर लिखते हैं, “अब सवाल यह है कि आप […]

Continue reading about आधिकारिक चिट्ठाकार मिलन

admin on June 9, 2005

आज सुबह टीवी पर एक रिपोर्ट देखी जिस का शीर्षक था हरीकेन बेबीज़, यानी तूफान के बच्चे। ठीक नौ महीने पहले फ्लोरिडा में भीषण समुद्री तूफान आया था, और आजकल क्षेत्र के अस्पतालों में नवजात शिशुओं की संख्या में १५-२० प्रतिशत बढ़ोतरी दिख रही है। एबीसी टीवी की साइट पर तो इस खबर का लिंक […]

Continue reading about तूफान के बच्चे

मेरे चिट्ठे में एक और परिवर्तन हो गया है। मेरा चिट्ठा अब पुराने स्थान से नए स्थान पर चला गया है। आशा है यह स्थान स्थाई रहेगा। ब्लॉगडिगर के देबाशीष, नारद के पंकज और बलॉगफीडर के जीतू से प्रार्थना है कि वे अपनी अपनी “डाइरियों” में मेरा पता बदल दें। ब्लॉगर सूची वाली जावास्क्रिपट तो […]

Continue reading about चिट्ठे का नया घर, और एक नया चिट्ठा

जब भारतीय, या भारतीय मूल के, लोग किसी विश्व स्तरीय प्रतियोगिता में जीतते हैं तो खुशी तो होती ही है। सौन्दर्य प्रतियोगिताओं का ९० के दशक का भारत से मोह अब भंग होता दीख रहा है। इस बार मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता में तो मिस इंडिया फाइनल १५ में भी नहीं पहुँची। स्पेलिंग प्रतियोगिताओं में भारतीय […]

Continue reading about नेशनल स्पेलिंग बी २००५ चैंपियन।

admin on June 1, 2005

बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार : भारत के प्रधानमंत्री ने कहा है कि कश्मीर में सीमा को ‘अर्थहीन और अप्रासंगिक’ बनाने और भारत प्रशासित कश्मीर को अधिक स्वायत्ता देने से पाकिस्तान के साथ चल रहे विवाद को सुलझाने में सहायता मिल सकती है। मेरी प्रतिक्रिया, जो बीबीसी के पन्ने पर भी छपी है, यूँ है […]

Continue reading about किश्ती में छेद