मैं एक इनक्युअरेब्ल ऑपटिमिस्ट हूँ, यानी लाइलाज आशावादी। मैं इस बात में सौ प्रतिशत विश्वास करता हूँ कि आशा ही जीवन है। ज़िन्दगी में कुछ भी गुज़र जाए, मैं हमेशा यही मानता हूँ कि शायद इस से बुरा भी हो सकता था, और जो मेरे साथ हो रहा है, हज़ारों-लाखों लोगों के साथ रोज़ इस […]

Continue reading about आशा ही जीवन है – नवीं अनुगूँज

यदि आप थोड़े से मेरे जैसे हैं तो ज़रूर आपने ३१ दिसम्बर को कुछ वायदे किए होंगे अपने साथ – हफ्ते में पाँच दिन व्यायाम करना, कम से कम हर दूसरे दिन ब्लॉग लिखना, हर जगह देर से पहुँचने की आदत छोड़ देना, वग़ैरा वग़ैरा। और अगर आप थोड़े से और मेरे जैसे हैं, तो […]

Continue reading about नव वर्ष 2062 की शुभकामनाएँ यानी नवरेह मुबारक

रोजनामचा पर मुशर्रफ की भारत की क्रिकेट यात्रा के बारे में पढ़ा, और साथ ही सूचना दी उन्होंने ब्लागजगत की उन के खिलाफ मुहिम के बारे में। अँग्रेज़ी ब्लॉग जगत के नामी गिरामी चिट्ठाकार इस मुहिम में शामिल हो गए हैं, हिन्दी वालों ने भी खाता खोल लिया है, तो मैं ने सोचा बैनर को […]

Continue reading about मुशर्रफ के ख़िलाफ मुहिम

कल शनिवार को मेरे मित्र के पिता जी का सत्तरवाँ जन्मदिन था। इस अवसर पर उन के परिवार वालों ने उन के लिए एक “सरप्राइज़” जन्मदिन समारोह का प्रबन्ध किया था। सरप्राइज़ जन्मदिन पार्टियाँ तो आजकल इतनी आम हो गई हैं कि अब उन को सरप्राइज़ रखना मुश्किल हो जाता है। यानी, यदि हर साल […]

Continue reading about कंप्यूटर पर गुरबानी