इस खेल की कड़ी मेरे पास मेरे मित्र राज कौशिक ने सिडनी से भेजी। यदि आप ने यह खेल पहले नहीं देखा हो तो थोड़ी देर के लिए सिर चकरा देता है। यदि आप ने ईमानदारी से इसका रहस्य स्वयं पता किया हो तो आप को बधाई। लेकिन राज़ को राज़ ही रहने दो, वरना राज ना-राज़ हो जाएगा।

3 Comments on जादू का खेल

  1. kalicharan says:

    Wow ! iska raaz batayein

  2. s.n. pandey says:

    iska raaz batayein

  3. Laxman Kumar Malviya,Advocate says:

    iska rahsya kya hai ye bhi to spasht kare.

Leave a Reply